कोविड-19 महामारी के बीच मां बनी महिलाओं में बढ़ रही अवसाद, चिंता :अध्ययन
Editor : Deba Sahoo
 23 Jun 2020 |  274

टोरंटो: कोविड-19 महामारी के कारण हाल ही में मां बनी महिलाओं में अवसाद, चिंता तथा भय की भावना बढ़ गई है। एक अध्ययन में किये गए दावे में बताया गया है कि प्रत्येक सात में एक महिला प्रसव के ठीक पहले और इसके तुरंत बाद की अवधि में मानसिक रोग से जुड़े लक्षणों से जूझ रही है। फ्रंटियरर्स इन ग्लोबल वूमन हेल्थ जर्नल ने एक अध्ययन प्रकाशित कर जानकारी दी है कि हाल ही मां बनी महिलाओं में महामारी के दौरान अवसाद और चिंता एवं भय की भावना में वृद्धि हुई है। कनाडा स्थित अल्बेर्टा विश्वविद्यालय से इस अध्ययन की सह-लेखिका मेर्जी डावेनपोर्ट ने कहा," वायरस के प्रसार को कम करने के लिये जरूरी सामाजिक दूरी एवं पृथक रहने की वजह से हममें से कई लोग शारीरिक एवं मानसिक स्तर पर स्वास्थ्य समस्याओं का सामना कर रहे हैं। वैज्ञानिकों ने बताया है कि हाल ही में मां बनी महिलाओं में ये तनाव दुष्प्रभावों के रूप में देखे जा रहे हैं। 900 महिलाओं पर किये गये इस अध्ययन में से 520 गर्भवती थी और उनमें से 380 ने पिछले साल अपने बच्चे को जन्म दिया था। इन सभी महिलाओं से महामारी के पहले उनमें अवसाद और चिंता एवं भय की भावना के बारे में जानकारी ली गई थी। वैज्ञानिकों के अनुसार, महामारी शुरू होने से पहले उनमें से 29 प्रतिशत महिलाओं ने हल्की से मध्यम स्तर की चिंता एवं भय की भावना का अहसास किया था, जबकि 15 प्रतशित ने अवसाद के लक्षणों को महसूस किया। अध्ययन के मुताबिक महामारी के दौरान 72 फ़ीसदी महिलाओं द्वारा चिंता और भय महसूस किया गया जबकि 41 प्रतिशत ने अवसाद का सामना किया। वैज्ञानिकों के द्वारा महिलाओं से लॉकडाउन में उनके व्यायाम की आदतों में बदलाव आने के बारे में भी पूछा गया। वैज्ञानिकों का मानना है कि शारीरिक गतिविधियां सीमित हो जाने पर इन लक्षणों की आशंका बढ़ सकती है।
(भाषा)


Browse By Tags




Related News

Copyright © 2016 Sehat 365. All rights reserved          /         No of Visitors:- 1258958