पार्किंसंस रोग को नियंत्रित करने के लिए दिमाग में पेसमेकर डाला गया 
| 6/1/2023 5:18:27 PM

Editor :- Mini

सावित्री देवी, 51 वर्षीय महिला मरीज, न्यूरोसर्जरी विभाग, सर गंगा राम हॉस्पिटल में लगभग एक महीने पहले आई थी। वह पिछले 9 सालों से पार्किंसन्स रोग  से पीड़ित थीं। इसकी शुरुआत कंपकंपी और ब्रैडकिनेसिया (चलने-फिरने में कठिनाई) से हुई और बाद में उसमें कठोरता आ गई। दवाओं के साथ उसका इलाज किया जा रहा था लेकिन उसके लक्षण बिगड़ते रहे और वह जो दवाएं ले रही थी उससे साइड इफेक्ट्स विकसित होने लगे। बिना दवाओं के वह न तो ठीक से चल पाती थी, न करवट लेती थी और न ही बिस्तर से उठ पाती थी। दवाओं से वह अपने हाथों और पैरों को नियंत्रित नहीं कर पाती थी और वे उसके नियंत्रण के बिना चलते थे। वह आखिरकार हमारे पास आई जहां उसका गहन मूल्यांकन किया गया और उसे डीप ब्रेन स्टिमुलेशन का विकल्प दिया।

डॉ. श्रेय जैन एसोसिएट कंसल्टेंट न्यूरोसर्जरी डिपार्टमेंट सर गंगा राम हॉस्पिटल के अनुसार डीप ब्रेन स्टिमुलेशन एक नई सर्जरी है, जिसमें मस्तिष्क के विशेष क्षेत्रों को उत्तेजित करते हैं। यह दिमाग में पेसमेकर की तरह ही काम करता है। इस मामले में, हमने मस्तिष्क के सबथैलेमिक न्यूक्लियस  को उत्तेजित करने की योजना बनाई। सर्जरी का उद्देश्य बीमारी को नियंत्रित करने और रोगी की जीवनशैली में सुधार करने में मदद करना है। यह विशेष रूप से पार्किंसन्स रोग, कंपकंपी, डायस्टोनिया जैसी बीमारियों में उपयोगी है। इसका मूल्यांकन करने पर अवसाद और उन्माद जैसी मानसिक स्थितियों के लिए सकारात्मक परिणाम प्राप्त हुए। मिनिमली इनवेसिव सर्जरी तब की जाती है जब मरीज पूरी सर्जरी के दौरान कुशल एनेस्थेटिस्ट और तकनीशियनों की सहायता से उन्नत गैजेट्स के बैक अप के साथ जाग रहा होता है।

डॉ. जैन ने कहा, "यह एक मिनिमली इनवेसिव सर्जरी  है, जिसमें खोपड़ी में दो छोटे छिद्रों के माध्यम से गहरे मस्तिष्क में इलेक्ट्रोड को द्विपक्षीय रूप से पारित किया जाता है। सर्जरी के दौरान मरीज की लगातार जांच और ब्रेन इलेक्ट्रिक करंट रिकॉर्ड कर लोकेशन की पुष्टि की गई। सर्जरी के दौरान उसके बातचीत, आंखों की गति और अंगों की शक्ति पर नजर रखी जा रही थी और यह देखा जा रहा था कि उसके लक्षणों में कैसे सुधार हो रहा है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि सर्जरी का प्रभाव कम से कम जटिलताओं के साथ अधिकतम हो। सर्जरी के दौरान, उसने एक बिंदु पर बोलना बंद कर दिया, इसलिए इलेक्ट्रोड को बदल दिया गया और मरीज की बोलने की शक्ति वापस आ गई। इलेक्ट्रोड सही स्थिति में हैं यह सुनिश्चित करने के लिए सर्जरी के बाद सीटी स्कैन भी किया गया था। बाद में पेसमेकर की तरह छाती की दीवार में बैटरी डाली गई।

सर्जरी के बाद यह मरीज काफी हद तक ठीक हो गया है और दवाओं के किसी भी दुष्प्रभाव के बिना सामान्य जीवन जीने में सक्षम है। दवाओं की खुराक कम हो गई है और उनके दुष्प्रभाव कम से कम हैं। सावित्री देवी बहुत खुश हैं और लगभग सामान्य जीवन जी रही हैं जो उसे असंभव लगता था। उसके हाथ-पैर कांपने के लक्षणों में काफी सुधार हुआ है। वह अब चीजों को ठीक से पकड़ सकती है।



डॉ. अजीत के. सिन्हा, सीनियर कंसलटेंट, न्यूरोसर्जरी डिपार्टमेंट, सर गंगा राम हॉस्पिटल के अनुसार, "अब बहुत कम चुनिंदा स्थानों पर सर्जरी उपलब्ध हैं, जहां जिन बीमारियों का पहले कोई इलाज नहीं था, दवाएं कम करके नियंत्रण में लाया जा सकता है। अकेले भारत में 7 मिलियन से अधिक लोग पार्किंसंस बीमारी से पीड़ित हैं और यह बीमारी दुर्बल करने वाली हो सकती है। डीप ब्रेन स्टिमुलेशन के साथ जिन अन्य बीमारियों ने सकारात्मक परिणाम दिखाए हैं उनमें कंपकंपी, डायस्टोनिया, अवसाद, ओसीडी, मिर्गी और पुराने दर्द शामिल हैं। उन्नत होती तकनीक और सर्जिकल कौशल के साथ, लोगों को ऐसे विकल्पों के बारे में जागरूक होना चाहिए ताकि इन समस्याओं के होते हुए भी सामान्य जीवन जीने का सबसे अच्छा मौका मिल सके।"

 



Browse By Tags



Videos
Related News

Copyright © 2016 Sehat 365. All rights reserved          /         No of Visitors:- 557003